Wednesday, October 2, 2013

बेटिया

कितना कुछ सह जाती है बेटिया
अक्सर चुप रह जाती है बेटिया !!

कहाँ तक हिफाजत रखे अपनी -
जब घर में ही बेआबरू हो जाती है बेटिया!

अक्सर चाह कर भी ,नहीं कर पाती कुछ -
अरमानो का गला घौट रह जाती है बेटिया !!

बदल लेती है ,बक्त के साथ खुद को-
हर हाल ढल - जाती है बेटिया !!

क्यों इनका इतना खौप खाते है लोग-
जो कौख में क़त्ल कर दी जाती है बेटिया !!

हरेक कदम पर चुनौती है इनके -
मेहनत से आगे बड जाती है बेटिया !!

बेटी किसी की बहन कभी ,प्रेमिका भी होती
रिश्तो के कितने रंगों में रंग जाती है बेटिया !!


कितना कुछ सह जाती है बेटिया
अक्सर चुप रह जाती है बेटिया !!

6 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (04-10-2013) को " लोग जान जायेंगे (चर्चा -1388)
    "
    पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  2. AAHHA KE SATH WAH .. BETIYA SACH ME BHAGWAN KI ANMOL KRITIYA HAI .. PAR FIR BHI SAHANNA HI INKI NIYTI HAI UMDA RACHNA BADHYI EVEM SHUBHKAMNAYE

    ReplyDelete
  3. चुप रह रह के जुल्म सह सह के हमने जी लिया बहुत दिन पर अब नही। ध्यानाकर्षक प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  4. बदल लेती हैं वक्त के साथ खुद को..हर हाल ढ़ल जाती हैं बेटियां
    बहुत खूब लिखा है..

    ReplyDelete