Wednesday, January 11, 2012

betiya

"जब _जब जनम लेती है बेटी,
खुशिया साथ लाती है बेटी ,
माँ की परछाई पिता का रूप होती है बेटी ,
इश्वर की सोगात होती है बेटी ,
सुबह की पहली किरण है बेटी ,
तारों की शीतल छाया है बेटी ,
त्याग और समर्पण सिखाती है बेटी ,
नए-नए रिश्ते बनाती है बेटी ,
जब सुसराल जाये बड़ा रुलाती है बेटी ,
पर जिस घर जाये उजाला लाती है बेटी ,
बेटी की कीमत उनसे पूछो जिनके पास नहीं है बेटी .........||"